Friday, December 26, 2008

शेष तुम्हारी इच्छा . . .


मैं
चाहता हूं तुम्हें
या नहीं,
कह नहीं सकता ।

मैं बस तुम्हारा ही हूं
या नहीं ,
कह नहीं सकता ।

तुम्हारे एक कहने पर
दे दूंगा जान
या नहीं
कह नहीं सकता ।

यदि चाहो तुम
कोई आश्वासन ,कोई वादा
तो कह सकता हूं बस यही
कि
जो भी रहूंगा ,
जैसा भी रहूंगा ,
जितना भी रहूंगा ,

रखूंगा सम्मुख तुम्हारे
स्वयं को पूरा पूरा
बिना किसी तह और सिलवट के !


शेष तुम्हारी इच्छा . . . .. . .!

13 comments:

  1. बहुत बढ़िया, भई, संवेदनशील

    ---
    चाँद, बादल, और शाम
    http://prajapativinay.blogspot.com/

    गुलाबी कोंपलें
    http://www.vinayprajapati.co.cc

    ReplyDelete
  2. संवेदनशील,बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  3. "रखूंगा सम्मुख तुम्हारे
    स्वयं को पूरा पूरा
    बिना किसी तह और सिलवट के !"

    गर आप यह करने लगे
    तो राह ही खुल जायेगी...

    प्यारी कविता .

    ReplyDelete
  4. बहुत साफ़ सुथरी और ईमानदार कविता और तुम्हारा लेखन भी बहुत अच्छा

    आर्जव भाई तुमहारा स्वागत है और इसी तरह लिखते रहो, मेरी शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  5. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    ब्लॉग्स पण्डित - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  6. हिंदी लिखाड़ियों की दुनिया में आपका स्वागत। अच्छा लिखे। खूब लिखे। हजारों शुभकामनांए।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  8. अत्यन्त सुंदर रचना
    आपका लिखने पढने की दुनिया में स्वागत है
    मेरे ब्लॉग पर पधारे स्नेहिल आमंत्रण है

    ReplyDelete
  9. वाह क्या खूब लिखा, सुंदर कविता

    ReplyDelete
  10. Ati sinder
    कलम से जोड्कर भाव अपने
    ये कौनसा समंदर बनाया है
    बूंद-बूंद की अभिव्यक्ति ने
    सुंदर रचना संसार बनाया है
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    http://zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    http://chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. maza aa gaya bhai kya khoobsurat entry mari hai....

    ReplyDelete
  12. हाँ यहीं से तुम्हे पहचान मिली है...... मानता हूँ.

    ReplyDelete