Thursday, October 23, 2008

मैं


किसी बहुत प्रिय ने ही कहा था की बड़े हृदयहीन हो तुम , उसी के लिए -



जो हूँ ,वो तो होना ही पड़ेगा !


अब जो हूँ , वह होने में मेरा कोई चुनाव तो है नहीं , कोई हस्तक्षेप तो है नहीं ,


मतलब जो हूँ .............


वो हूँ ही !


तो ,जो हूँ, वो बने रहने के लिए मैं तब तक स्वतंत्र हूँ जब तक मेरे इस होने से


किसी अन्य को कोई कष्ट नहीं पहुंचता !



सो , मैं खुद को , बिलकुल खुद तक समेटता हूँ ,


अपने विष खुद उपजाता हूँ , खुद ही समोता हूँ !


अपनी आग पर खुद ही उबलता हूँ , भाप बनता हूँ , फिर चुपचाप पानी बन लौट आता हूँ !



मेरे बाहर का वातावरण तब मुझे क्षुद्र और स्वार्थी कहता है


और कहता है की मैं एक कीड़ा हूँ !


एक नन्हीं -सी आरामदायक उदासी के साथ मैं इसे स्वीकारता हूँ ,


यह स्वीकार अपने पीछे कुछ क्षोभ और एक भुरभुरी-सी असंतुष्टि छोड़ जाता है !



तब , मैं जो हूँ , उसके अलावा कुछ और होना चाहता हूँ .... ...फिर से ......


लेकिन तभी , कड़ाके की सर्दी -सा कोई अनजाना खौफनाक डर


आकर मुझे जकड़ लेता ही.......


और मैं दुबककर खुद में वापस घुस जाता हूँ ! ! !


No comments:

Post a Comment