Sunday, September 19, 2010

वेश्यावृत्ति


जीवन तो
जाने कब का
चुक गया था


फिर
वहां

मौत
थी

वही मौत

॒॒॒॒॒॒॒

जाने क्यॊं

चीजें
पैदा हुयी थी

जाने क्यों
चीजें
खत्म
हो गयी


फिर
वहां

मौत
थी


वही
मौत


॒॒॒॒॒॒॒

सब
फूल झर गये

पंछी
सब मर गये
वृन्त
सब पीत हुये

शब्दॊं
में भर गयी सड़ान्ध

उत्सव
की स्मृतियों में लग गये दीमक
मर
कर सड़ गया

प्यार

देह
को उसकी

नोच
कर कौवे

खा
गये


फिर
वहां

मौत
थी


वही
मौत

॒॒॒॒॒॒॒

समय
ने खॊले

फिर
जाने
कितने
नये
चकलाघर

धुंआधार
चलने लगी

फिर
वही

हां वही
जीवन
की अबाध
वेश्यावृत्ति

10 comments:

  1. ओह यह मेरी त्रुटि है कि नज़र नही पड़ी इस कविता पर..! आर्जव..बेहद सटीक..अरसे बाद एक बार फिर से उम्दा कविता को पढ़ने को मिली. बेहद सशक्त लेखनी आपकी है बंधू..! और दृष्टि जो आर्जव में है..वह एक दुर्लभ दृष्टि है. यह दुर्लभ दृष्टि दोस्त तुम्हारे शब्द-शब्द से झरती है.सहज-सरल-सतत !

    ReplyDelete
  2. फिर वहां
    मौत थी

    वही मौत
    ..... पर जीवन भी कुछ कम लतखोर नहीं है--पिटता है, रगेदा जाता है,धूल-धूसरित होता है, रिरियाता है, दुर-दुराया जाता है और एक दिन सब झाड-पोंछकर उठ खड़ा होता है ; मौत की आँखों में ऑंखें डालकर कहता है -- कहानी अभी बाकी है, मेरे दोस्त !

    ReplyDelete
  3. फिर वहां
    मौत थी

    वही मौत...

    bahut bhavpoorn rachna.... badhai sweekarein... aap mere blog par padhare aur hausla afzai ki iske liya shukriya ....

    ReplyDelete
  4. मैं स्वयं कविता के पथ का पथिक हूँ अभी तक तो मिली नहीं ! इसलिए इस रचना पर कुछ कहना ? हाँ ! रचना ही कहूँगा इसे .. कविता में सत्यम शिवम सुन्दरम का संगम होता है ..यहाँ सत्य तो है, सौंदर्य भी है लेकिन, शिवत्व के स्थान पर कीलकत्व है जो इसे कविता नहीं होने देगा .. जीवन के संदर्भ में तो नहीं; लेकिन, सामाजिक संदर्भ में ऐसी रचनाएँ विष-कन्याओं का पर्याय होती हैं .. बहुत बार अपनी और दूसरों की ऐसी ही रचनाओं में फंसा हूँ.. बहुत दंश झेले हैं ..अनुभव सिद्ध बात कह रहा हूँ..भरत मुनि ने भी सावधान किया था मृत्यु को मंचित करने से ..वही तथ्य रचना पर भी लागू होता है ..लेकिन, रचना में एक छूट है यदि जीवन के अनुपात मे इसे प्रस्तुत करें तो इसके विषाद अवसाद भावों को संतुलित कर सकते हैं...आप सच्चे मायनों में कवि होने की प्रक्रिया में हैं ..इसलिए आप से यह बातें कह रहा हूँ किसी अन्य से नहीं कहता ! शुभम

    ReplyDelete
  5. श्यामजी की टिप्पणी से सहमत!

    ReplyDelete
  6. "कविता में सत्यम शिवम सुन्दरम का संगम होता है ..यहाँ सत्य तो है, सौंदर्य भी है लेकिन, शिवत्व के स्थान पर कीलकत्व है जो इसे कविता नहीं होने देगा .. जीवन के संदर्भ में तो नहीं; लेकिन, सामाजिक संदर्भ में ऐसी रचनाएँ विष-कन्याओं का पर्याय होती हैं ."


    आर्जव जी इन पंक्तियो पे ध्यान दे कविता में शिवत्व लायें
    सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  7. जैसी आपकी आग्या प्रशान्त जी !

    ReplyDelete
  8. "पर जीवन भी कुछ कम लतखोर नहीं है--पिटता है, रगेदा जाता है,धूल-धूसरित होता है, रिरियाता है, दुर-दुराया जाता है और एक दिन सब झाड-पोंछकर उठ खड़ा होता है ; मौत की आँखों में ऑंखें डालकर कहता है -- कहानी अभी बाकी है, मेरे दोस्त !"
    kya baat hai! shaandaar baat !

    ReplyDelete