Thursday, August 6, 2015

नागालैण्ड की लोक कथायें : कोढ़ी का इलाज ( खण्ड २)





(नागालैण्ड की लोक कथाएं : कोढ़ी का इलाज,खण्ड १)

जैसे ही उसने झाड़ियों के बीच झांका , उसे एक बड़ा पेर (कोबरा, जहरीला सांप) दिखायी दिया. ध्यान से देखने पर पता चला कि पेर की पूरी देह पर कोई रोग है जिससे उसकी चमड़ी सड़ गयी है. वह बहुत बुरा लग रहा था, मानो उसे कुष्ठ रोग हो.
पेर धीरे धीरे आगे बढ़ने लगा. उस व्यक्ति ने अपने आप को पेड़ों के पीछे छुपा लिया और चुपचाप पेर को देखता रहा. पेर थोड़ी दूर जाकर वहां उगी एक चौड़े पत्तों वाली घास को खाने लगा . आदमी आश्चर्यपूर्वक पेर और उस घास को देखता रहा. कुछ पत्तियां खा लेने के बाद पेर धम्म से पास के झरने के गहरे पानी में डुबकी लेने उतर गया.
काफी समय तक नहाने के बाद पेर( सांप) गहरे पानी से बाहर आया. लेकिन अब वह एकदम नया पेर लग रहा था. उसकी त्वचा बहुत मुलायम व कोमल हो गयी थी. उस पर वह गन्दा कुष्ठ रोग नहीं था. यह शानदार परिवर्तन बस कुछ मिनटों में हुआ था. इसके बाद पेर वहां से झाड़ियों में सरक गया, कभी दुबारा न दिखने के लिए.
यह सब देखकर जवान व्यक्ति एकदम स्तम्भित रह गया. उसने उस जादूई पौधे के बारे में जानना चाहा जो सांप की ऐसी गन्दी और भयानक चमड़ी की बीमारी को दो पल में धुल सकता है. थोड़ा ही खोजने के बाद उसे वह पौधा मिल गया . यह सोचकर कि जैसे पेर की चमड़ी चमक उठी , वैसी उसकी भी हो जाएगी, जवान आदमी ने पौधे की कुछ पत्तियां निगल ली , कुछ अपनी देह पर मल ली. उसके बाद पेर की तरह उसने भी झरने के गहरे पानी में डुबकी लगा दी. और जब वह बाहर आया तो उसने अपने शरीर में आश्चर्यजनक परिवर्तन देखा.
अब उस जवान व्यक्ति की देह पर गन्दी और जर्जर चमड़ी कहीं भी नहीं थी. थी तो बस चमकदार कोमल , नयी त्वचा, बिलकुल किसी बच्चे जैसी. अत्यन्त ही आह्लादमय आश्चर्य के साथ वह जवान व्यक्ति एक नए प्राणी के तौर पर बाहर आया. जैसे कि यह सब एक सपना हो. हांलाकि यह सब एक सच था. और उस जवान व्यक्ति के पास कोई ऐसा शब्द नहीं था जिससे इस आश्चर्यजनक रूप से चंगा कर देने वाली शक्ति के प्रति हो रही खुशी को व्यक्त कर सके. इसी खुशी में वह अपने घर, गांव की ओर चल पड़ा, अपनी अधेरी गुफा को सदा के लिए छोड़कर.   
                                                                 .............जारी.

2 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (07.08.2015) को "बेटी है समाज की धरोहर"(चर्चा अंक-2060) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete