Wednesday, December 15, 2010

ज्वार

ज्वार आया
और चला गया !

तुम्हारे कुछ
शब्दों के साथ
किनारे रेत में
अटका रह गया मैं !

धूल धूसरित
पहचानहीन
चुप !