Wednesday, March 24, 2010

जानता हूँ पर .......

जानता हूं
यह रास्ता कहीं नहीं जाता
फिर भी चल रहा हूं ।
जानता हूं
आगे कुछ नहीं है
फिर भी इसी पर
ढल रहा हूं ।

है अस्वीकार का साहस ।
प्रतिरोध की शक्ति है ।

जानता हूं हासिल हर जोड़ का
शून्य है
फिर भी
स्वयं को कर
एक विलम्बित मौन-सा
इस ही राह पर
बिछ रहा हूं………..

जानता हूं पर चल रहा हूं ………