Friday, April 17, 2009

श्श्श्श...चुप !!

1.
. . . .श्श्श्श्श्श्श्श्श . . .चुप ! ! ! !
घात लगाये ,
छत मुड़ेर पर,
अभी
टिकुरी बैठी है बिल्‍ली . . .. . .।


2.
शोर न करो,
धीरे धीरे आओ
छत पर फैला गेहूं
कुचुर कुचुर खा रही है
सजग गिलहरी ।

Monday, April 13, 2009

क्षणिकाए

(1)
मैं बना गर्भ
पालता बीज
तुम्हारे प्रेम का ।

(2)
खूशबू से पूछो
पता
फूल के दर्द का ।


(3)
घोंसले में थकी सोयी है
चिड़िया । सूरज !
रुको अभी थोड़ी देर !