Saturday, November 1, 2008

(०)
गहरा है तो क्या !
खारा है …
उथली है तो क्या !
मीठी है …..

स्थिर है तो क्या !
सिर्फ़ संचय जानता है ….
बहती है तो क्या !
देना जानती है …

विशाल है तो क्या !
लहरों में लयहीन फुफकार है..
लघु है तो क्या !
लयमय कल कल सुर है …

गंभीर,स्थित्प्रग्य है तो क्या !
ख़ुद में ही ठहरा हुआ है …
विगलित है तो क्या!
हुलसाती है , उफनती है ,
बिखरती है ,सिमटती है ,
ख़ुद को पूरा पूरा दे देना
जानती है…….

Wednesday, October 29, 2008

क्षणिकाएं

(१)
किसे नहीं पता की
सच क्या है .....! ! ! !
लेकिन ....................
(2)
कभी सोचा है तुमने !
हमेशा काली ही क्यों होती है ?
परछायी आदमी की !
(3)
चाहूँ तुम्हें ! ! ! !
!...!....!......!.....!
आख़िर कैसे ? ? ?
(4)
जरूरी है दुनियाँ में बुढ्ढे भी
क्योंकि बुढ्ढे चाहते हैं जोड़ना
हर टूटी चीज को !
(5)
आखिर भेद न सके तुम व्यूह
रूपसी के मधुर आह्वाहन का !
मानूँ कैसे पुरुष मैं तुमको ?